35+ Best Masoom Shayari, Masoom Chehra Shayari in Hindi, मासूम शायरी

Best Masoom Shayari Here you can find the complete collection of Ahmad Masoom Shayari. The updated and latest collection of Urdu Nazams, Ghazals, Qataat, Udas Shayari, Dosti Ki Shayari, Muasharti Shayari, Muhabat Bhari Shayari, Udas Ghazalen, Umed Ki Nazmain, Best Masoom Shayari Sad Poetry, Love Poetry, Friendship Poetry, Social Poetry, Relationship Poetry, Breakup Poetry is available here

Best Masoom Shayari

Best Masoom Shayari
Best Masoom Shayari

उसकी #सादगी और उसकी #खूबसूरती की क्या दूँ मिसाल,
चेहरे पर मासूमियत# और अदाएं उसकी है बड़ी #बेमिसाल..!!

दुनिया में कोई भी इंसान# सख़्त दिल पैदा नही होता…

बस ये दुनिया वाले उसकी #मासूमियत छीन लेते है…!!

मासूम# तेरी आँखों में मेरा दिल खो जाता है,
जब जब तुझे देख लू मेरा जीवन #मुकम्मल हो जाता है,

न आए तू जो मुझको #नज़र तेरे दीदार के लिए
मेरा दिल# तरस जाता है।

मुकद्दर की #लिखावट का इक ऐसा भी कायदा हो,
देर से क़िस्मत# खुलने वालों का दुगुना #फ़ायदा हो।

कितनी #मासूमियत छलक आती है
जब छोटे बच्चे# की तरह वो मेरी

उंगलियो के साथ खेलते खेलते सो जाती है

क्यों #उलझता रहता है तू लोगो से फराज.

ये जरूरी तो नहीं वो चेहरा# सभी को प्यारा लगे।

मुहब्बत होंठों से नहीं, उनसे निकली #मीठी बातों से है..

क्यों कि #मासूमियत चेहरे से कहीं ज्यादा, उसकी भोली #आँखों…

Shayari in Hindi

इल्ज़ाम तो लगा दूँ कि क़ातिल भी तुम्ही हो,
मगर मासूम सा चेहरा है.. यक़ीन कौन करेगा….

Ilzaam To Laga Dun Ki Qatil Bhi Tumhi Ho,
Magar Masoom Sa Chehra Hai.. Yakeen Kaun Karega….

बुझ जाएंगी सारी आवाजें
यादें यादें रह जाएंगी
तस्वीर बचेंगी आँखों में
और बातें सब बह जाएंगी

थम के रह जाती है जिंदगी
जब जम के बरसती है पुरानी यादें

Masoom Chehra Shayari in Hindi

थोड़ा सुकून भी ढूँढिये जनाब
ये ज़रूरतें तो कभी ख़त्म नहीं होंगी

जिंदगी ये तेरी खरोंचे हैं मुझ पर
या फिर तू मुझे तराशने की कोशिश में हैं

पलक से पानी गिरा है तो उसको गिरने दो
कोई पुरानी तमन्ना पिघल रही होगी

Yaadein , Waade, Kasmein, Kisse
Fareb Hote Hain
Humein Jhoothha Samajhne Ka
Andaaza Na Karo”

“यादें, वादे, कसमें, किस्से
फरेब होते हैं
हमें झूठा समझने का
इरादा ना करो”

वो मासूम चेहरा मेरे ज़ेहन से निकलता ही नहीं
दिल को कैसे समझाऊ कि धोखेबाज़ था वो

मुझे धोका दे कर आज तू खुश है
मुझे तड़पा तड़पा के रुला कर आज तू खुश है

मोहब्बत सिखा कर जुदा हो गए
ना सोचा ना समझा खफा हो गए
दुनिया में किसको हम अपना कहे
अगर तुम ही मेरी जान बेवफा हो गए

अपनों की फितरत में ही है धोखा देना
क्यूंकि गैरों से मिले धोखे का तो दर्द भी नहीं होता

बहुत मासूम होते है ये आँसू भी ये गिरते उनके लिए है जिन्हे परवाह नहीं होती..

Mere Dil Ke Kisi Kone Me Ek Masoom Sa Bachcha Hai,
Badon Ki Dekhkar Duniya Barda Hone Se Darta Hai.

मासूम शायरी

main aur Mera Masoom Dil tujhe online
dekh kar hi khush ho jate Hain

35+ Best Masoom Shayari, Masoom Chehra Shayari in Hindi, मासूम शायरी

Add a Comment

Your email address will not be published.