Mohabbat Shayari 2022 | Mohabbat Shayari Urdu | Mohabbat Shayari Sms

Mohabbat Shayari मोहब्बत एक ऐसा शब्द है जिसे हम सभी जानते है आप इसे प्यार, इश्क़ ,लव किसी का भी नाम दे सकते हो। कभी कभी हमें किसी के साथ पहली मुलाकात में मोहब्बत हो जाता है, Mohabbat Shayari Urdu और अपनी मोहब्बत का इजहार करना सबसे अच्छा तरीका हो Mohabbat Shayari Sms

Mohabbat Shayari

बस रिश्ता ही तो टूटा है
मोहब्बत तो आज भी हमे उनसे ही है
मोहब्बत शायरी,Mohabbat Shayari

Koi Thukra De To Hans Kar Ji Lena
Kyuki Mohabbat Ki Duniya Me Zbarjasti Nhi Hoti
Mohabbat Shayari, मोहब्बत शायरी

Mujhe Qabool Hai Har Dard Har Takleef Teri Chahat Me
Sirf Itna Bta Do Kya Tujhe Meri Mohabbat Kbool Hai
Mohabbat Shayari, मोहब्बत शायरी

सुना था.. मोहब्बत मिलती है, मोहब्बत के बदले
हमारी बारी आई तो, रिवाज हि बदल गया

Ek Pyara Sa Gulab Aapke
Liye Agar Kabul Hai Toh
Muskura Dena Aur Kabul
Na Ho Toh Hame Lauta DenaCOPY

इरादा तो सिर्फ तुमसे DOSTI का
था पर पता ही ना चला कब तुमसे
MOHABBAT हो गया।

Irada Toh Sirf Tumse Dosti
Ka Tha Par Parta Hi Na Chala
Kab Tumse “Mohabbat” Ho Gaya

Also Read:

Mohabbat Shayari Urdu

मोहब्बत रंग दे जाती है
जब दिल से दिल मिलते है
पर मुश्किल ये है के मोहब्बत
बड़े मुश्किल से मिलते है!

Mohabbat Rang De Jati Hai
Jab Dil Se Dil Milte Hain
Par Mushkil Yeh Hai Ke..
Ye Mohabbat Badi Mushkil
Se Milte Hain! Wha Wha!

बेपनाह मोहब्बत की है
तुमसे बेफिक्र रहो तुम
नाराज हो सकते है तुमसे
कभी नफरत ना होगी!

मोहब्बत का तो पता नहीं
पर हा मेरी हर शायरी में
जिक्र सिर्फ तुम्हारा है

Mohabbat Ka Pata Nahi
Par Haan Meri Har Shayari
Main Zikr Tumhara Hi Hai

कभी किसी से मोहब्बत मत करना
हो जाए तो इनकार मत कर करना
निभा सको तो चलना उसके रहा पर वरना
किसी की ज़िन्दगी बरबाद मत करना।

Mohabbat Shayari Sms

Mohabbat Karna Hai
Phir Se Karna Hai
Baar Baar Karna Hai
Hazar Baar Karna Hai
Lekin Sirf Tumse Karna Hai

एक हसरत है कि कभी वो भी हमे मनाये,
पर ये कम्ब्खत दिल कभी उनसे रूठता ही नही।

Ek hastart hai ki kabhi wo bhi hume manaye,
Par ye kambakht dil kabhi unse ruthta hi nahi.

जिस्म से रूह तक जाए तो हकीकत है इश्क,
और रूह से रूह तक जाए तो इबादत है इश्क़।

Jism se ruh tak jaye to hakikat hai ishq,
Aur ruh se ruh tak jaye to ibadat hai ishq.

हवस की परवरिश होती है पर्दे में मोहब्बत के,
कहाँ अब इस ज़माने में किसी को प्यार होता है….

Hawas Ki Parvarish Hoti Hai Parde Mein Mohabbat Ke,
Kahan Ab Is Zamane Mein Kisi Ko Pyar Hota Hai….

तेरी करवटों से बयां मेरी दास्ताँ ए मुहब्बत है,
वरना कौन इतना बेचैन हुआ किसी के लिये….

Teri Karvaton Se Bayan Meri Dastan E Mohabbat Hai,
Varna Kaun Itna Bechain Hua Kisi Ke Liye….

मोहब्बत के पटवारी को जानते हो?
मुझे मेरा महबूब मेरे नाम कराना है….

Mohabbat Ke Patwari Ko Jante Ho?
Mujhe Mera Mehboob Mere Naam Karana Hai….

दिल तोड़ना हमारी आदत नहीं,
दिल हम किसी का दुखाते नही,
भरोसा रखना हमारी वफा पे,
दिल में बसा कर हम किसी को भुलाते नहीं

Mohabbat Shayari Rekhta

Dil Torna Hamari Aadat Nhi,
Dil Ham Kisi Ka Dukhate Nhi,
Bharosa Rakhna Hamari Wfha Pe,
Dil Me Bsa Kar Kisi Ko Bhulate Nhi,

क्या करे जब किसी कि याद आये,
हर धड़कन पे किसी का नाम आये,
कैसे कटेगे ये लम्हे इंतजार में उसके,
इश्क़ में हर घड़ी मेरी जान जाये,

Kya Kre Jab Kisi Ki Yad Aaye,
Har Tharkan Pe Kisi Ka Name Aaye,
Kaise Katege Ye Lamhe Eantjar Me Uaske,
Ishq Me Har Ghari Meri Jan Jaye,

अजीब सबूत मागा उसने मेरी मोहब्बत का,
भूल जाओ तो मानू कि मुझसे मुहब्बत हैं,

Ajib Sabut Maga Uasne Meri Mohbbt Ka,
Bhul Jaoo To Manu Ki Mujhse Muhbbt Hai

आप पहलू में जो बैठें तो संभल कर बैठें,
दिल-ए-बेताब को आदत है मचल जाने की।

दो चार लफ्ज़ प्यार के लेकर हम क्या करेंगे,
देनी है तो वफ़ा की मुकम्मल किताब दे दो।

लाखों हसीन हैं इस दुनिया में तेरी तरह,
क्या करें हमें तो तेरी रूह से प्यार है।

मुझे सहल हो गई मंजिलें वो,
हवा के रुख भी बदल गये,
तेरा हाथ,
हाथ में आ गया,
कि चिराग राह में जल गये।

अच्छी सूरत नज़र आते ही मचल जाता है,
किसी आफ़त में न डाल दे दिल-ए-नाशाद मुझे।

ये तो नहीं कि तुम सा जहान में हसीन नहीं,
इस दिल का क्या करूँ ये बहलता कहीं नहीं।

यह सफर दोस्ती का कभी कम ना होगा,
दोस्तो से प्यार कभी काम ना होगा…!
दूर रह कर भी हमारी होती रहे बातें तो,
हमें कभी बिछड़ने का गम ना होगा…!

Mohabbat Shayari English

मिलने की खुशी है या बिछड़ने का गम,
आंखों में आंसु है या उदास है हम…!
कैसे कहे की अब कैसे है हम,
बस इतना समझ लेना कि तुम बिन अकेले है हम…!

तेरी चाहतों ने मुझपर किया येसा असर,
जिधर देखूं बस तेरा ही चेहरा आए हमसफर…!
मेरी खामोशियां भी जुबां बन गई,
मेरी बेचैनी अब दास्तां बन गई…!

Mohabbat Shayari, Mohabbat Shayari Urdu, Mohabbat Shayari Sms, Mohabbat Shayari Rekhta, Mohabbat Shayari English

Add a Comment

Your email address will not be published.